अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana in Hindi)

benefits of atal pension yojana, atal pension yojana chart, atal pension yojana details, atal pension yojana 2019, atal pension yojana in hindi

अटल पेंशन योजना (या एपीवाई, जिसे पहले स्वावलंबन योजना के रूप में जाना जाता था) भारत सरकार समर्थित एक पेंशन योजना है, जो मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को ध्यान में रख कर निर्धारित किया गया है। जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 मई को कोलकाता में लॉन्च किया था। जिसका उल्लेख तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा 2015 के बजट भाषण में किया गया था। मई 2015 तक, भारत की केवल 20% आबादी के पास किसी भी प्रकार की पेंशन योजना थी और APY योजना का उद्देश्य संख्या को बढ़ाना है। (benefits of atal pension yojana, atal pension yojana chart, atal pension yojana details, atal pension yojana 2019)

केंद्र सरकार के इस योजना में यदि आप शामिल होते हैं, तो आपको (पति या पत्नी) को जीवन भर न्यूनतम पेंशन की गारंटी मिलती है। APY एक गारंटीकृत पेंशन योजना है और पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण (PFRDA) के अधिकार क्षेत्र में आता है। यदि आपका खाता पहले से ही प्रोविडेंट फण्ड अकाउंट (EPF, PPF, GPF इत्यादि) या NPS में है तो भी आप अटल पेंशन योजना खाता खोल सकते हैं ।

पात्रता की शर्तें:

  1. भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  2. न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए।
  3. अधिकतम आयु ४० वर्ष होनी चाहिए।
  4. बैंक/डाकघर में बचत खाता होना चाहिए।
  5. आप केवल 1 अटल पेंशन योजना में शामिल हो सकते हैं।

सरकारी सह-योगदान/सह-अंशदान :

भारत सरकार का सह योगदान 5 साल( वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2019-20 ) की अवधि के लिए उन ग्राहकों को उपलब्ध है जो 1 जून, 2015 से 31 मार्च, 2016 की अवधि के दौरान इस योजना में शामिल हो चुके  हैं और जो किसी भी वैधानिक और सामाजिक सुरक्षा योजना में शामिल नहीं हैं एवं आयकर दाताओं में शामिल नहीं हैं। सरकार कुल योगदान का 50% या अधिकतम 1000 रुपये का अंशदान देगी। वैसे लाभार्थी जो वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के अंतर्गत आते हैं, एपीवाई के तहत सरकार के सह-योगदान प्राप्त करने के पात्र नहीं हैं। उदाहरण के लिए, निम्नलिखित अधिनियमों के तहत सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के सदस्य एपीवाई के तहत सह-योगदान प्राप्त के पात्र नहीं है:

  • कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1952
  • कोयला खान भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1948
  • असम चाय बागान भविष्य निधि और विविध प्रावधान, 1955
  • नाविक भविष्य निधि अधिनियम, 1966
  • जम्मू-कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1961
  • कोई भी अन्य वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजना

पेंशन योजना में खाता कैसे खोलें:

अपने निकटतम बैंक की शाखा में जाकर इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप किसी भी सरकारी बैंक (जैसे SBI, PNB इत्यादि) में जाकर यह खाता खोल सकते हैं। इसके अलावे आप NPS की वेबसाइट पर ऑनलाइन aaply कर सकते हैं।

अटल पेंशन योजना का लाभ( benefits of atal pension yojana ):

  • सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त लाभों के रूप में कम जोखिम पेंशन विकल्प
  • योगदान के आधार पर लाभुक को 1,000, रु। 2000, रु। 3000, रु। 4000 या रु। 5,000 निश्चित पेंशन।
  • एपीवाई खाताधारक के निधन के मामले में लागू नियमों के अनुसार पति / पत्नी / नॉमिनी के लिए लाभ की गारंटी।
  • कोई भी स्वरोजगार या वेतनभोगी इस योजना का लाभ उठा सकता है।
  • APY का लाभ अन्य निजी / सरकार समर्थित पेंशन योजनाओं में योगदान करने वाले भी उठा सकते हैं।
  • इसका लाभ संगठित/असंगठित क्षेत्र का कोई भी कर्मचारी उठा सकता है।
  • जमा होने वाली पेंशन राशि को भविष्य में अपने सुविधा अनुसार घटाया या बढ़ाया जा साकता है।
  • राशि को सुविधा अनुसार मासिक, त्रैमासिक या अर्धवार्षिक जमा करने का विकल्प।
  • अटल पेंशन योजना के तहत न्यूनतम पेंशन के लिए यदि पेंशन योगदान पर वास्तविक रिटर्न अंशदान की अवधि के दौरान कम हुआ तो कमी को सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा। दूसरी ओर, यदि पेंशन योगदान पर वास्तविक रिटर्न न्यूनतम गारंटी पेंशन के लिए योगदान की अवधि में रिटर्न की तुलना में अधिक हैं तो इसका अतिरिक्त लाभ ग्राहक को मिलेगा।
  • धारा 80 सीसीडी (1) के तहत, आप अपनी वार्षिक आय के 20% तक के लिए APY में निवेश के लिए टैक्स बेनिफिट ले सकते हैं (अधिकतम 1.5 लाख प्रति वित्तीय वर्ष)। यह धारा 80 C के तहत 1.5 लाख की सीमा के अन्दर आता है।
  • धारा 80 सीसीडी(1 बी) (Section 80 CCD(1B)) के तहत, आप अटल पेंशन योजना में निवेश के लिए 50,000 रुपये तक का एक अतिरिक्त कर लाभ उठा सकते हैं।

अटल पेंशन योजना कैलकुलेटर (atal pension yojana chart):

इस योजना में प्राप्त होने वाले पेंशन की रकम आपकी उम्र एवं किए गए निवेश और पर निर्भर करटा  है. यह योगदान मासिक/तिमाही/छमाही अंतराल पर बचत बैंक खाते से ऑटो डेबिट सुविधा के माध्यम से होता है। इस योजना से जितनी जल्दी आप जुड़ेंगे उतना ही अधिक फायदा मिलेगा. अगर कोई व्यक्ति 18 साल की उम्र में अटल पेंशन योजना (APY) से जुड़ता है तो उसे हर महीने 210 रुपये का निवेश करना होगा ।

atal pension yojana chart

देय राशि में चूक/देरी:

APY से जुड़े बैंक खाते से महीने के अंतिम दिन तक किसी भी समय बैंक देय राशि की वसूली कर सकता है। यदि APY के ग्राहक ऑटो-डेबिट के लिए किसी कारणवश पेंशन योजना में नियमित योगदान करने में विफल रहते हैं, तो उस अकाउंट के लिए निम्नलिखित प्रावधान हैं :

  • 6 महीने तक देय राशि नहीं मिलने पर APY खाता अवरूद्ध हो जाता है।
  • यदि 12 महीने में भी देय राशि प्राप्त नहीं होती है तो APY खाता निष्क्रिय हो जाता है।
  • 24 महीने बाद भी भुगतान न होने के APY खात स्वत: बंद हो जाता है।

APY से निकासी प्रक्रिया :

  • 60 साल की आयु होने पर : 60 वर्ष की समाप्ति पर ग्राहक संबंधित बैंक से गारंटी न्यूनतम मासिक पेंशन या अधिक मासिक पेंशन( अगर निवेश रिटर्न एपीवाई में एम्बेडेड गारंटीड रिटर्न की तुलना में अधिक है ) प्राप्त करने के लिए अधिकृत हैं। यदि ग्राहक की मृत्यु किसी वजह से हो जाती है तो मासिक पेंशन की समान राशि पति या पत्नी (डिफ़ॉल्ट नामित) को देय है। नामांकित ग्राहक और पति या पत्नी दोनों की मौत पर 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन धन की वापसी के लिए पात्र होंगे।
  • 60 साल के बाद ग्राहक की मृत्यु के मामले में :- ग्राहक की मृत्यु के मामले में, वही पेंशन पति या पत्नी को देय है और दोनों की मृत्यु पर (ग्राहक और पति या पत्नी) 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन नामांकित को वापस किया जायेगा।
  • निवेशक की मृत्यु 60 वर्ष से पहले होने पर: यदि ग्राहक की मृत्यु 60 वर्ष से पहले हो जाती है तो शेष अवधि( मूल ग्राहक 60 वर्ष की आयु तक ) के लिए निहित योगदान को जारी रखने का विकल्प पति या पत्नी के पास उपलब्ध होगा। ग्राहक का पति या पत्नी मृत्यु पर वही पेंशन राशि प्राप्त करने का हकदार होगा जो ग्राहक को देय था। एपीवाई के तहत पूरे संचित कोष पति या पत्नी/नामिती को लौटा दी जाएगी।
  • 60 साल की उम्र से पहले बाहर निकलना :- यदि ग्राहक ने एपीवाई () के तहत सरकार के सह-योगदान का लाभ उठाया है, भविष्य में स्वेच्छा से एपीवाई बाहर होना चाहता है तो उसे केवल एपीवाई में उनके द्वारा किया गया योगदान उनके योगदान पर अर्जित शुद्ध वास्तविक अर्जित आय के साथ-साथ खाते के रखरखाव शुल्क घटाने के बाद वापस किया जाएगा। सरकार के सह-योगदान है, और सरकार के सह-योगदान पर अर्जित आय, इस तरह के ग्राहकों के लिए वापस नहीं किया जाएगा। ( atal pension yojana in hindi , benefits of atal pension yojana, atal pension yojana chart, atal pension yojana details, atal pension yojana 2019 )